संयुक्त राष्ट्र के सैन्य कमांडर बने लेफ्टिनेंट जनरल मोहन सुब्रमण्यम, एंटोनियो गुतेरस ने नियुक्ति का दिया आदेश

आज भारत के लिए गौरव का दिन है। आपको बता दें कि भारत के लेफ्टिनेंट जनरल मोहन सुब्रमण्यम को दक्षिण सूडान (UNMISS) में संयुक्त राष्ट्र मिशन के नया सैन्य कमांडर बनाया गया है। संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने बुधवार को इसका आदेश जारी किया था। इस स्थान पर पहले भारत के लेफ्टिनेंट जनरल शैलेश तिनिकर थे।

भारतीय सेना में लेफ्टिनेंट जनरल सुब्रमण्यम करीब 36 वर्षों से अधिक समय से अपनी सेवा दे रहे हैं। उन्होंने मध्य भारत में मिलिट्री रीजन, जनरल ऑफिसर कमांडिंग के रूप में भी कार्य किया है। उन्होंने सेना की परिचालन व रसद तैयारियों आदि में अपना योगदान दिया है। लेफ्टिनेंट जनरल सुब्रमण्यम के पास रक्षा और प्रबंधन अध्ययन में व सामाजिक विज्ञान में दो मास्टर ऑफ फिलॉसफी डिग्री हैं। लेफ्टिनेंट जनरल सुब्रमण्यम को तमिल, अंग्रेजी व हिंदी भाषाओं का अच्छा ज्ञान है।

जनरल सुब्रमण्यम रक्षा मंत्रालय में (2019-2021) के एकीकृत मुख्यालय में खरीद और उपकरण प्रबंधन के लिए अतिरिक्त महानिदेशक रहे है। 2018-2019 तक स्ट्राइक इन्फैंट्री डिवीजन के डिप्टी जनरल ऑफिसर कमांडिंग रहे है। 2015-2016 में इन्फैंट्री डिवीजन, 2013-2014 तक माउंटेन ब्रिगेड के कमांडर, भारतीय सशस्त्र बलों के अन्य पदों पर काम किया है। उन्होंने लाओस और कंबोडिया, वियतनाम में 2008-2012 तक में भारत के रक्षा अताशे के रूप में काम किया है। वहीं 2000 में सिएरा लियोन में संयुक्त राष्ट्र मिशन के साथ एक कर्मचारी अधिकारी के रूप में भी काम किया है ।

1986 में लेफ्टिनेंट जनरल मोहन सुब्रमण्यम को कोर ऑफ आर्मी एयर डिफेंस में कमीशन किया गया था। आपको बता दें कि उन्हें सेना मेडल, अति विशिष्ट सेवा मेडल और विशिष्ट सेवा मेडल से भी सम्मानित किया गया है। सुब्रमण्यम ने तमिलनाडु के अमरावतीनगर में सैनिक स्कूल, खड़कवासला और भारतीय सैन्य अकादमी, राष्ट्रीय रक्षा अकादमी, देहरादून आदि जगहों पर पढ़ाई की है।

 

Leave a Comment