क्या टीम इंडिया की गेंदबाजी कमजोर हो गई? लगातार तीन टेस्ट हारने पर उठ रहे सवाल

भारतीय क्रिकेट टीम ने इंग्लैंड में एजबेस्टन टेस्ट मैच के शुरुआती दौर में अंग्रेजो के खिलाफ काफी बेहतरीन प्रदर्शन किया। जिससे सभी क्रिकेट प्रेमियों में भारतीय क्रिकेट टीम की जीत की उम्मीद जगी थी। लेकिन तीसरी पारी में टीम इंडिया को अंग्रेजो के खिलाफ बहुत बुरी हालत से गुजरना पड़ा। बता दे कि भारतीय क्रिकेट टीम को इंग्लैंड के खिलाफ चौथी इनिंग में 7 विकेट से हार का सामना करना पड़ा है। हालांकि भारतीय क्रिकेट टीम ने इंग्लैंड के सामने 378 रनों का पहाड़ खड़ा किया था। जिसे देखकर ऐसा लग रहा था कि आप टीम इंडिया की जीत पक्की है। लेकिन चौथी इनिंग में पूरी पिक्चर ही बदल गई।

गेंदबाजों का कमजोर प्रदर्शन

भारतीय क्रिकेट टीम के द्वारा टेस्ट क्रिकेट की यह तीसरी जीत की हार है। इस साल ही जनवरी महीने में भारतीय टीम साउथ अफ्रीका के दौरे पर थी जहां पर साउथ अफ्रीका की टीम ने डीन एल्गर के द्वारा बनाए गए 96 रनों की बदौलत भारतीय टीम पर 7 विकेट से जबरदस्त जीत हासिल की थी। इसके बाद केपटाउन टेस्ट मैच में भी भारतीय टीम का परफॉर्मेंस कुछ खास नहीं रहा। भारतीय टीम 212 रनों के टारगेट को भी चेंज नहीं कर पाए और वहां भी टीम को 7 विकेट से हार का सामना करना पड़ा जिसके बाद टीम के परफॉर्मेंस पर अब काफी ज्यादा गहराई से चिंतन करने की जरूरत महसूस हो रही है।

तीनों मैच में सेम पैटर्न

बता दें कि किसी भी टेस्ट मैच में चौथी इनिंग में 200 से ज्यादा रन बना पाना किसी भी बल्लेबाज के लिए आसान नहीं होता। ऐसे में टीम को चौथी इनिंग में 200 रनों के अंदर के समेटने की जिम्मेदारी गेंदबाजों की होती है उन्हें लेना लेकिन एजबेस्टन, केपटाउन और जोहानिसबर्ग टेस्ट मैच में लगातार सेम पैटर्न देखने को मिला। भारतीय टीम के गेंदबाज चौथी इनिंग में पूरी तरह से बेबस नजर आए पूर्ण ज्ञान बता दें कि इन तीनों टेस्ट मैच में भारतीय टीम के गेंदबाजों ने 207.5 ओवर गेंद डाली। इस हिसाब से गेंदबाजों ने विरोधी टीम के लिए 4.01 रन प्रति ओवर के हिसाब से खर्च किए।

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ मिली थी ऐतिहासिक जीत

हालांकि इस साल से पूर्व के टेस्ट मैच देखे जाए तो भारतीय गेंदबाजों ने काफी जबरदस्त प्रदर्शन करके दिखाया था। गाभा का जो मैदान जहां पर ऑस्ट्रेलिया की टीम पिछले 32 साल से एक भी मैच नहीं हारी थी उसी मैदान पर ऑस्ट्रेलिया को भारतीय टीम के गेंदबाजों ने धूल चटाई थी। उस मैच में भारतीय टीम 36 रनों पर ऑल आउट हो गई थी ऐसे में टीम इंडिया की जीत की सारी उम्मीदें ही खत्म हो गई थी। लेकिन बेहतरीन गेंदबाजी के बल पर टीम इंडिया ने जिस तरीके से ऑस्ट्रेलिया के ऊपर जीत हासिल की थी वह अभूतपूर्व थी।

Leave a Comment